Posted in हिन्दी कविता, ग़ज़ल, blog

मुहब्बत की क़ैद

1222 1222 1222 1222

ये कैद-ए-इश्क़ से ‘जाना’ तुझे आज़ाद करते है,

मुकम्मल आज तेरी और इक मुराद करते है।

भुला देना मुझे बेशक़ जो चाहो भूलना पर हम,

कहेंगे ना कभी तुम्हें कि कितना याद करते है।

खता कर बैठते है हम मुहब्बत में तिरी यूँ ही,

कि अक्सर उस ख़ुदा का ज़िक्र तेरे बाद करते है।

किया महबूब का सजदा मैंने, की है इबादत भी,

वो ठुकरा के मिरा ये इश्क़ कहीं ईजाद करते है।

कि वो बरबाद करके ज़ोया को, मासूम बन बैठे

दिखाने को किसी की ज़िन्दगी आबाद करते है।

Copyright © 2022 Jalpa lalani ‘Zoya’

स्वरचित , सर्वाधिकार सुरक्षित

Posted in हिन्दी, blog, Poetry

Vote For Me😊

Hey! Guys! I have been nominated for Author of the Week by reader’s choice on StoryMirror. Give me a clap and get me more claps by sharing this link in your groups.

Thank you!

https://awards.storymirror.com/program/564d3560-29fe-4baa-b9fa-ed774c54ceac/hindi/author/g51jcl10/poem

© Jalpa lalani ‘Zoya’