Posted in हिन्दी कविता, ग़ज़ल, blog

मुहब्बत की क़ैद

1222 1222 1222 1222

ये कैद-ए-इश्क़ से ‘जाना’ तुझे आज़ाद करते है,

मुकम्मल आज तेरी और इक मुराद करते है।

भुला देना मुझे बेशक़ जो चाहो भूलना पर हम,

कहेंगे ना कभी तुम्हें कि कितना याद करते है।

खता कर बैठते है हम मुहब्बत में तिरी यूँ ही,

कि अक्सर उस ख़ुदा का ज़िक्र तेरे बाद करते है।

किया महबूब का सजदा मैंने, की है इबादत भी,

वो ठुकरा के मिरा ये इश्क़ कहीं ईजाद करते है।

कि वो बरबाद करके ज़ोया को, मासूम बन बैठे

दिखाने को किसी की ज़िन्दगी आबाद करते है।

Copyright © 2022 Jalpa lalani ‘Zoya’

स्वरचित , सर्वाधिकार सुरक्षित

Posted in हिन्दी कविता, ग़ज़ल, blog

कुछ क़समें झूठी सी

इज़हार-ए-इश्क़ में कुछ क़समें झूठी सी उसने खाई थी,

यक़ीन नहीं आता, क्या मोहब्बत भी झूठी  दिखाई थी?

सरेआम नीलाम कर दिए उसने मेरे हर एक ख़्वाब को,

जिसने मेरे दिन का चैन औ मेरी रातों की नींद चुराई थी।

जिसे  समझ बैठी थी मैं  आग़ाज़-ए-मोहब्बत  हमारी,

दरअसल  वो तो  मिरे  दर्द-ए-दिल  की इब्तिदाई  थी।

यूँ तो  नज़रअंदाज़  कर गई मैं  उसकी सारी गलतियां,

मगर क्या अच्छाई के पीछे भी छुपी उसकी बुराई थी!

अब  कैसा  गिला  और  क्या  शिकायत  करूँ उससे!

जब  दोनों  के  मुक़द्दर में  ही  लिखी  गई  जुदाई  थी।

उसकी इतनी  बे-हयाई और बेवफ़ाई  के  बावज़ूद भी,

माफ़  कर  दिया  उसे,  ये  तो  ‘ज़ोया’  की  भलाई थी।

[इब्तिदाई=शुरुआत]

Copyright © 2022 Jalpa lalani ‘Zoya’

स्वरचित, सर्वाधिकार सुरक्षित

Posted in हिन्दी कविता, ग़ज़ल, blog

कतल इश्क़ का

1222  1222  122
कि दर्द-ए-दिल ये दिलबर ने दिया है,
कतल ये इश्क़ का उसने किया है।

मुहब्बत में सनम ने करके धोखा,
बदल ज़ालिम ने ख़ुद को ही लिया है।

जो मेरी रूह पर खंजर चला तो,
वो हर अश्क़-ए-लहू मैंने पिया है।

मेरी हर साँस में है साँसें उसकी,
न इक लम्हा भी उसके बिन जिया है।

नहीं मांगा था हमने तो कभी भी, 
ये ग़म का तोहफ़ा फ़िर क्यों दिया है!

Copyright © 2021 Jalpa lalani ‘Zoya’

Posted in हिन्दी, ग़ज़ल, blog

मैं लब हूँ वो अल्फ़ाज़ है

2212  2212


मैं लब हूँ वो अल्फ़ाज़ है,
मैं नज़्म, वो जज़्बात है।

दिल की ज़मीं सूखी मेरी,
वो अब्र, वो बरसात है।

हर वक़्त, हर पल पास है,
वो दिन, वो मेरी रात है।

फ़िक्र-ए-सुख़न में मेरी वो,
तहरीर का एहसास है।

क़ुरआन का वो हर सफ़ा,
वो सूरा वो आयात है।

वो ज़ीस्त-ए-ज़ोया की हर,
खुशियों की वो सौग़ात है।

Copyright © 2021 Jalpa lalani ‘Zoya’ (सर्वाधिकार सुरक्षित)

शुक्रिया😊

Posted in हिन्दी, ग़ज़ल, blog

सोचा न था

2212   2212   2212   2212 बह्र में ग़ज़ल


तेरी जुदाई में जी पाएंगे कभी सोचा न था,
वो था फ़रेब-ए-इश्क़ तेरा, वो भी तो सच्चा न था।

एतबार के धागे से बंधा राब्ता था अपना जो,
यूँ टूटा इतना भी हमारा रिश्ता ये कच्चा न था।

ख़्वाहिश थी तुझको इक दफ़ा देखूँ पलटकर भी मगर,
मुझको यूँ ही जाते हुए तूने कभी रोका न था।

तुझ से बिछड़के क्या ग़म-ओ-अफसोस करना ऐ सनम,
खोने का भी क्या रंज हो जिसको कभी पाया न था।

सह भी लिए ज़ोया ने सब ज़ुल्म-ओ-सितम भी इसलिए,
खोया था अपनों को, तुझे भी अब उसे खोना न था।

स्वरचित (सर्वाधिकार सुरक्षित)

Copyright © 2021 Jalpa lalani ‘Zoya’

Posted in हिन्दी, ग़ज़ल, blog

मरीज-ए-इश्क़

आजकल  कुछ अजीब  सा  मर्ज़ हुआ है,
मर्ज़ क्या, जैसे चुकाना कोई कर्ज़ हुआ है।

जाना हुआ मोहब्बत की दार-उल-शिफ़ा में,
बोला हक़ीम तुम्हें तो, दिल का दर्द हुआ है।

मर्ज़-ए-इश्क़  की  महंगी  पड़ी  है  तदबीर,
वस्ल-ए-यार  का इलाज  जो अर्ज़  हुआ है।

रूठा  है बीमारदार  इस मरीज-ए-इश्क़ का,
रूह-ए-जिस्म के पर्चे पर नाम दर्ज हुआ है।

ये साँसे  तो  चलती  है सनम  की खुशबू से,
क्या करें! मिरा महबूब  ही खुदगर्ज हुआ है।

परवा-ए-उम्मीद-ओ-बीम   न   कर   ‘ज़ोया’
इश्क़-ए-तबाही  में अक्सर ही  हर्ज हुआ है।

उर्दू शब्दों में अर्थ: मर्ज़=बीमारी/ दार-उल-शिफ़ा=अस्पताल/ तदबीर=उपाय/ वस्ल=मुलाक़ात/ बीमारदार=परिचारक /परवा-ए-उम्मीद-ओ-बीम=आशा की परवाह/ हर्ज=नुकशान

© Jalpa lalani ‘Zoya’ (स्वरचित)

सर्वाधिकार सुरक्षित

शुक्रिया।

Posted in हिन्दी कविता, ग़ज़ल, blog

ग़ज़ल

अश्कों को मेरे तेल समझ दीया जला दिया,
लहू को मेरे मरहम समझ ज़ख़्म पर लगा दिया।

बेइंतहा फिक्र करते थे उनकी शाम-ओ-सहर,
उसने हमारी परवाह का भी दाम लगा दिया।

इश्क़ में नहीं निभा सके वो वादा-ए-मोहब्बत,
और बेवफ़ा का इल्ज़ाम हम पर ही लगा दिया।

मोहब्बत करके दिल तोड़ गया वो मतलबी
फिर दोस्ती का नाम देकर एहसान जता दिया।

वो क्या समझेगा ‘ज़ोया’ तेरी ग़ज़ल, शायरी को,
कागज़ पर उतरे जज़्बात को अल्फ़ाज़ बता दिया।

© Jalpa lalani (सर्वाधिकार सुरक्षित)

Note: इसकी कॉपी करना मना है।

शुक्रिया।

Posted in हिन्दी कविता, blog

एक ख़त उनके नाम

दिल के कागज़ पे एक ख़त उनके नाम लिख रही हूँ
बेशक़ बग़ैर पते का है वो मुक़ाम, जहाँ भेज रही हूँ

मन में उठते हर सवाल का उससे जवाब मांग रही हूँ
धोखे से मिले ज़ख्मों का, उससे मरहम मंगा रही हूँ

न समझे लफ़्ज़ों की बोली, सिर्फ एहसास जता रही हूँ
सारे रिश्ते नाते तोड़ के उससे गहरा रिश्ता बना रही हूँ

पहुँच जाए ख़त दर-ए-मक़सूद पे, यही राह देख रही हूँ
समा जाऊँ नूर-ए-खुदा में, ख़ुद को काबिल बना रही हूँ।

© Jalpa lalani ‘Zoya’

शुक्रिया।

Posted in हिन्दी कविता, ग़ज़ल, ग़ज़ल हिंदी, blog

जज़्बात की ग़ज़ल

मेरे दिल में दफ़न जज़्बात कभी उभर जाते हैं,

ये कागज़ कलम वो एहसास बयाँ कर जाते हैं।

मन के भंडार में छुपे ख़यालात,भावों में पिरोकर,

अनकहे अल्फ़ाज़ को कागज़ पर उतार जाते हैं।

रच  जाती है  पूरी किताब दास्ताँ-ए-ज़िंदगी की,

कि जज़्बात की ग़ज़ल से हर सफ़ा भर जाते हैं।

© Jalpa lalani ‘Zoya’ (सर्वाधिकार सुरक्षित)

शुक्रिया।