Home

कुछ क़समें झूठी सी

इज़हार-ए-इश्क़ में कुछ क़समें झूठी सी उसने खाई थी,यक़ीन नहीं आता, क्या मोहब्बत भी झूठी दिखाई थी? सरेआम नीलाम कर दिए उसने मेरे हर एक ख़्वाब को,जिसने मेरे दिन का चैन औ मेरी रातों की नींद चुराई थी। जिसे समझ बैठी थी मैं आग़ाज़-ए-मोहब्बत हमारी,दरअसल वो तो मिरे दर्द-ए-दिल की इब्तिदाई थी। यूँ तो नज़रअंदाज़ […]

Wanna some motivation!!

Hello friends! Please, Check out my new video on you tube at this link! If you like it please share and subscribe my channel to get more motivation. © Jalpa lalani ‘Zoya’